समर्थक

शुक्रवार, 25 नवंबर 2011

हो रही है जग-हँसाई (गीत)-नागेश पांडेय 'संजय'

गीत : नागेश पांडेय 'संजय'
तैल चित्र : रामेश्वर वर्मा 
तम भरी इस जिंदगी में
नेह बाती क्यों जलाई ?
रोशनी तो हो न पाई,
हो रही है जग-हँसाई।

फेंक शूलों की चटाई,
सेज फूलों की सजाई,
नींद तो फिर भी न आई
हो रही है जग-हँसाई।

अधलिखी वह प्रेम-पाती
आपने जब से पढ़ाई,
इधर सागर-उधर खाई,
हो रही है जग-हँसाई।

आपका अपराध क्या है?
वक्त की है बेवफाई,
नियति की भी है ढिठाई,
हो रही है जग-हँसाई।

मुक्त होकर जाल से
प्यासी मछरिया छटपटाई,
आह! यह कैसी विदाई।
हो रही है जग-हँसाई।

फूँकने को चैन, दिल में
आग हमने ही लगाई,
राख तक ना हाथ आई,
हो रही है जग-हँसाई।

कामनाओं की दुल्हनियाँ
अब्याही होकर लजाई,
भाँवरों के बिन सगाई,
हो रही है जग-हँसाई।

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही उम्दा लिखावट , बहुत ही सुंदर और सटीक तरह से जानकारी दी है आपने ,उम्मीद है आगे भी इसी तरह से बेहतरीन article मिलते रहेंगे Best Whatsapp status 2020 (आप सभी के लिए बेहतरीन शायरी और Whatsapp स्टेटस संग्रह) Janvi Pathak

    जवाब देंहटाएं

भावों की माला गूँथ सकें,
वह कला कहाँ !
वह ज्ञान कहाँ !
व्यक्तित्व आपका है विराट्,
कर सकते हम
सम्मान कहाँ।
उर के उदगारों का पराग,
जैसा है-जो है
अर्पित है।